Skip to main content

Posts

Featured

[मिट्टी के जिस्म में आग के श़ोले]

श़बनंम के हर क़तरों पर फ़ूलों को मचलते देखा हमने
समंदर के आग़ोश मे दरियाओ को सिमटते देखा हमने


हैरत है यहां इनसांन तो बना है मिट्टी का फ़िर भी आरिफ़
इन्सानियत को इनसांनों के हाथों जलते देखा हमने


✍️~मोहम्मद आरिफ़ इलाहाबादी

Latest Posts

[💓Mothers day💓[

[रब पर भरोसा और ख़ुद पर ऐतेमाद़ी दौरे ज़ुल्मत में]

[समझौता नफ़्स से]

[मोफ़क्किरे इस्लाम उर्दू फ़ारसी हिंदी के बेबाक़ श़ायर मोहम्मद अल्लामा इक़बाल]

[ज़ालिम हुक्मरान, ग़ाफ़िल अवाम]

[फ़िक्र ही मोहब्बत़ है]

[तफ़कीरे ग़म]

[वोटों की डकैती]

[अप्रैल फ़ूल ऐक जाहिलाना परंपरा है]

[श़हीद दिवस]💐💐💐